Saraswati Puja 2020: सरस्वती पूजा पर पढ़ें ये Best वंदना, गीत और आरती

maa_saraswati_puja 2020

Saraswati Puja 2020
मां सरस्वती वंदना का महत्व प्राचीन काल से ही भारतीय समाज में रहा है।

हिन्दीं के मूर्धन्य कवि सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” ने जब से ‘वीणावादिनि वर दे’ की रचना की तब से हीं माँ सरस्वती वंदना करने का प्रचलन तेज़ी से बढ़ा है।

जिन लोगों को मां सरस्वती की कोई भी वंदना या गाना नहीं पता उनके लिए हम यहां सबसे ज्यादा लोकप्रिय सरस्वती वंदना गीत और वंदना श्लोक दे रहे हैं जिन्हें आप पूजा के दौरान पढ़ सकते हैं ।

मां सरस्वती की पूजा में उनकी वंदना तथा गीत का बहुत महत्व है । ऐसा माना जाता है की जो भी माँ सरस्वती की पूजा में उनकी वंदना और गीत करता है माँ की कृपा उसपे तुरंत होती है ।

सरस्वती पूजा 2020 Date

सरस्वती पूजा 2020 तिथि
वसंत पंचमी
29th जनवरी 2020
Wednesday / बुधवार

सरस्वती वंदना-

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला
या शुभ्रवस्त्रावृता
या वीणावरदण्डमण्डितकरा
या श्वेतपद्मासना।
या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥

सरस्वती पूजा 2020: इन 5 मंत्रों से करें मां वीणावदिनि का ध्यान, बरसेगी कृपा

सरस्वती वंदना गीत-

वर दे, वीणावादिनि वर दे !
प्रिय स्वतंत्र-रव अमृत-मंत्र नव
        भारत में भर दे !

काट अंध-उर के बंधन-स्तर
बहा जननि, ज्योतिर्मय निर्झर;
कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर
        जगमग जग कर दे !

नव गति, नव लय, ताल-छंद नव
नवल कंठ, नव जलद-मन्द्ररव;
नव नभ के नव विहग-वृंद को
        नव पर, नव स्वर दे !

वर दे, वीणावादिनि वर दे।
 – सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”

मां सरस्वती की आरती

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता।
सद्‍गुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥ ॐ जय..

चंद्रवदनि पद्मासिनी, ध्रुति मंगलकारी।
सोहें शुभ हंस सवारी, अतुल तेजधारी ॥ ॐ जय..

बाएं कर में वीणा, दाएं कर में माला।
शीश मुकुट मणी सोहें, गल मोतियन माला ॥ ॐ जय..

देवी शरण जो आएं, उनका उद्धार किया।
पैठी मंथरा दासी, रावण संहार किया ॥ ॐ जय..

विद्या ज्ञान प्रदायिनी, ज्ञान प्रकाश भरो।
मोह, अज्ञान, तिमिर का जग से नाश करो ॥ ॐ जय..

धूप, दीप, फल, मेवा मां स्वीकार करो।
ज्ञानचक्षु दे माता, जग निस्तार करो ॥ ॐ जय..

मां सरस्वती की आरती जो कोई जन गावें।
हितकारी, सुखकारी, ज्ञान भक्ती पावें ॥ ॐ जय..

जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता।
सद्‍गुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥ ॐ जय..

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता ।
सद्‍गुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥ ॐ जय..

 

आशा करता हु आपको ये पोस्ट पसंद आयी होगी. माँ सरस्वती की कृपा हम सब पे बनी रहे

About the author

adminhindu

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *